राजनीति

भारतीयों के लिए गर्व का पल:आज अबू धाबी के पहले हिन्दू मंदिर का उद्घाट्न खुद हमारे प्रधान मंत्री मॊदी करेंगे।

  1. अरब देश सहित दुनिया भर में रहनेवाले हिन्दुओं के लिए खुश खबरी है। अबू धाभी में निर्मित पहले हिंदू मंदिर का उद्घाटन आज  प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी जी खुद करेंगें। अपने पश्चिम एशिया दौरे के अंतर्गत आज संयुक्त अरब अमीरात में वे मंदिर का उद्घाटन अपने कर कमलों से करेंगे। एक भारतीय के लिए यह सौभाग्य की बात है कि अरब देश में मंदिर बना है और उसका उद्घाटन खुद हमारे आदरणीय प्रधानमंत्री मॊदी जी करेंगे।

एक रिपोर्ट के अनुसार, समूचे संयुक्त अरब अमीरात में केवल एक ही हिंदू मंदिर है, जो दुबई में स्थित है। एक सर्वेक्षण के अनुसार संयुक्त अरब अमीरात में 2.6 मिलियन भारतीय हैं, जो देश की कुल आबादी का लगभग 30% हिस्सा हैं। वर्ष 2015 में मॊदी जी के  पहले दौरे के वक्त तेल-समृद्ध राष्ट्र में अबू धाबी के अल-वाथा में एक मंदिर के निर्माण के लिए लगभग 20,000 वर्ग मीटर भूमि आवंटित की गई थी। यह पहली बार हुआ था की एक कट्टर इस्लामिक देश में मंदिर बनाने के लिए जगह दिया गया था। विडंबना है की धर्म निरपेक्ष देश भारत में राम के जन्म स्थल में मंदिर बनाने के लिए न्यायालय का दरवाज़ा खटखटना पड़ता है।

केवल दो साल के भीतर मंदिर निर्माण का कार्य पूर्ण हॊ भी गया और आज मोदी जी के नेतृत्व में मंदिर का उद्घाटन होनेवाला है। प्रधान मंत्री मोदी अबू धाबी में मंदिर का उद्घाटन करेंगे और उसके बाद दुबई जाएंगे। वे 11 फरवरी को दुबई ऒपरा में ‘विश्व सरकार सम्मेलन’ में हिस्सा लेते हुए दुबई में रहने वाले भारतीयों के एक बड़े सम्मेलन को संबोधित करेंगे। दुबई में तीन दिवसीय ‘विश्व सरकार सम्मेलन’ का आयोजन किया गया है, जहां भारत को अतिथि देश के रूप में आमंत्रित किया गया है।

2015 में प्रधान मंत्री की यात्रा के बाद से यूएई के साथ भारत के संबंध में सुधार आ रहा है। इसी संबंधॊं के चलते अबू धाबी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन ज़ायद अल नहिन्थे 68 वें गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में भारत आये थे। संयुक्त अरब अमीरात ने भारत के लिए 75 बिलियन अमरीकी डालर के एक स्वाधीन फंड का संचालन किया है। भारत, संयुक्त अरब अमीरात का सबसे बड़ा और अहम व्यापारिक भागीदार है और वर्तमान में इन दोनों देश का वार्षिक व्यापार करीब 53 अरब डॉलर है।

अपनी इस यात्रा के दौरान प्रधान मंत्री मोदी ने पश्चिम एशिया-फिलिस्तीन का दौरा भी किया है। पिछले सात दशकों में फिलिस्तीन की यात्रा करने वाले पहले और एकलौते भारतीय प्रधान मंत्री है मॊदी जी। मोदी जी का उद्देश्य स्पष्ट है कि दुनिया के सभी देशों के साथ भारत के संबंधॊं को सुधार कर उन देशों के साथ भागीदारी कर देश के लिए विदेशी निवेश दिलवाकर देश में रॊज़गारी के अवकाश को बढ़ाना। साथ ही साथ भारत को आर्थिक और सांस्कृतिक रूप से सबल बनाकर विश्व पटल पर विश्व गुरु का दर्जा दिलवाना ही मॊदी जी का एक मात्र लक्ष है।

 

Tags

Related Articles