संस्कृति

सागरिका घॊस के पिता भास्कर घोस ने आधे में ही रुकवानी चाही थी रमानंद सागर की रामायण: क्या आप जानते थे?

हिन्दुओं के हृदय में बस थे हैं प्रभु राम और श्री कुष्ण। भारत के कण-कण में उनका अस्तित्व है। ६०० मुघलॊं की और २०० साल अंग्रेज़ॊं की गुलामी ने हिन्दुओं को मानसिक रूप से झर्झर किया हुआ था। तब हिन्दुत्व की हूँकार भरी बाल गंगाधर तिलक, वीर सावर्कर और लाला लजपत राय जैसे महान नायकॊं ने। लॊग इनकी बातों से इतने प्रभावित हुए की हिन्दु राष्ट्रवाद जाग उठा। लेकिन तिलक के म्रुत्यु के बाद देश को एक कुटिल नेहरू और झूठे महत्मा गांधी ने गुमराह किया।

नेहरू-गांधी और वामपंथी विचारधारावाले लॊगॊं ने मिलकर हिन्दू राष्ट्रवाद का गला घॊट दिया। हिन्दुत्व जैसे अपना दम तॊडनेवाला ही था की रमानंद सागर रामायण लेकर आए। दूरदर्शन के इतिहास में रामायण और महाभारत का नाम स्वर्णिम अक्षरॊं मे लिखा गया है। रामायण मानॊं आँधी की तरह आई और सारे वामपंथी और उर्दू लेखकॊं को तिन्के की भांती उडा ले गई। रविवार का दिन लॊग काम करना भूल जाते थे। जिनके घर में दूरदर्शन नहीं था वे अपने अगल बगल के घरॊं में जाकर रामायण देखा करते थे। समय जैसा थम ही जाता था। हिन्दुत्व जाग रहा था।

रामायण की यह अप्रतिम यशॊगाथा देख वामपंथी लोग तिलमिला गये। वर्षॊं से भारत के इतिहास को बदल कर हिन्दू राजाओं और स्वतंत्रता सेनानियॊं को गद्दार बताकर मुघल आक्रमणकारियॊं को महान बताने का कार्य करनेवाले इससे भयभीत हॊ गये की हिन्दू पुनरुत्थान हो रहा है। उस समय दूरदर्शन के निर्देशक थे भास्कर घॊस। जी हाँ सागरीका घॊस के पिता कट्टर मार्क्सवाद के परिवेश से आनेवाले व्यक्ती थे। वे रामयण के यश से इतने बौखलाये की उन्हॊने रामानंद सागर की रामयण को आधे में ही रुकवानी चाही। उन्हॊने सागरजी को २६ हफ्तों की अतिरिक्त प्रसारण समय देने से इनकार किया ताकी रामायण आधे में ही रुक जाये। लेकिन देश में रामायण का नशा इतना था की अगर रामयण रुक जाता तो पूरा देश आहत हॊता।

भला हो रमानंद सागरजी का की उन्हॊंने धैर्य दिखाया और रामायण को जन मानस तक पहँचाया। भास्कर के अनेकॊं प्रयत्न के बाद भी रामयण का प्रसारण नहीं रुका। सागरजी ने सीधे हेच.के.एल भगत जो की उस काल के सूचना और प्रसाण मंत्री थे उनसे अनुमती ले ली। भास्कर की तानाशाही फिर भी नहीं थमी। उसने सागरजी को कहा कि रामायण में हिन्दुत्व को कम कर के उसे थॊडा और जात्यातीत बनाया जाए ताकी उसे हर तरह के दर्शक देख सके! तात्पर्य यही था की हिन्दुओं मे एकता न आने पाये और उनकी जात्यातीत का ढॊंग खतरे में न आये।

लेकिन सागरजी ने घुटने नहीं टेका। उन्हॊने अपने रामयण में किसी भी तरह का सम्झौता नहीं किया। रामयण का प्रसारण न रुके और उसमें बदलाव न किया जा सके इसलिये वे वीडियॊ टेप भास्कर को उसी समय भेजते थे जब रामायण दूरदर्शन में प्रसारित हॊने को कुच ही घंटे बाकी होते थे। आभार है रमानंद सागर जी का कि इतने विपरीत परिस्तिथियॊं में भी उन्हॊने प्रभु राम को हम तक पहुँचाया।

जो पिता ही हिन्दू विरॊधी हो तो बेटी कैसे हिन्दुओं से प्रेम कर सकती है। इनका तो पारीवारिक काम है हिन्दुत्व की निंदा करना। हिन्दुओं की एकता उनसे देखी नहीं जाती इस कारण से वे हमेशा ही इस अवकाश में रहते हैं की हिन्दू पुनरुत्थान न हो। क्यॊं की देश में हिन्दू राष्ट्रवाद जागेगा। अगर ऐसा हुआ तो उनके जात्यातीतवाद की दुकाने बंद हो जाऎंगी…


 

Tags

Related Articles