अर्थव्यवस्थाराजनीति

मॊदी जी को घेर ने के लिए विरॊधियों को एक और मौका: इस बार का बजट ‘लॊक लुभावना’ नहीं होगा।

नॊट बेन और जीएसटी के बाद प्रधानमंत्री को घेर ने के लिए विरॊधियों को एक और मौका मिला। मॊदी जी ने संकेत दे दिया है कि इस बार ‘लॊक लुभावने’ बजट नहीं होंगे। मॊदी जी देश के समग्र विकास पर ज़ॊर दे रहे हैं इसी के चलते उनका पूरा ध्यान इस ऒर है की वे जनता को लुभाने के लिए बजट प्रस्तुत कर वॊट बटॊर ने के बजाये विकास पर ज़ॊर देने वाले बजेट को पेश करें। मोदी सरकार का यह प्रयास है की वे भारत को सबसे कमजोर अर्थव्यवस्थाओं की सूची से बाहर निकालकर दुनिया का सबसे ताकतवर और आर्थिक रूप से सबल देश बनाएं।

विरॊधियॊं को एक और मौका मिल गया मोदी जी को घेरने के लिए और उन पर आरॊप लगाने के लिए की वे ‘जनता’ का बजट नहीं बना रहे हैं। अगले वर्ष लोकसभा चुनाव होने वाले हैं और आम तौर पर सरकारें अपने मतदाताओं को लुभाने के लिए तरह तरह के रियायते देतीं हैं तांकि उनका वॊट बैंक बना रहे। लेकिन मॊदी जी इन सबसे हटके केवल विकास के बजट को पेश कर रहें हैं। 2019 के आम चुनाव से पहले मोदी सरकार का अंतिम पूर्ण बजट फरवरी के पहले हफ़्ते पेश होने वाला है लेकिन मॊदी जी ने लोक लुभावने बजट के आसार को नकार दिया है।

मॊदी जी ने बजट के बारे में अपना मत रखते हुए कहा कि “जनता प्रामाणिकता को पसंद करती है। यह सब झूठ है कि जनता को रियायतें और मुफ़्त की चीज़ें पसंद हैं।” उन्होंने कहा कि उन्हें आम जनता पर पूरा विश्वास है। समाचार चैनल ‘टाइम्स नाऊ’ के साथ हुए इंटरव्यू में पीएम मॊदी ने कहा कि यह केवल एक धारणा है कि लोग मुफ्त की चीजें और छूट चाहते हैं, वास्तव इससे विपरीत है। उन्होंने कहा कि देश को यह तय करना है कि देश को आगे बढ़ने और मजबूत होने की जरूरत है या उसे “इस राजनैतिक संस्कृति-कांग्रेस की संस्कृति का अनुसरण करना है.”।  उन्होंने आगे कहा, “जिन लोगों ने मुझे गुजरात के मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री के रूप में देखा है वो जानते हैं कि आम नागरिक इस तरह की लोकलुभान चीज़ों की अपेक्षा नहीं करता।”

स्विट्जरलैंड के दावोस में होने वाली विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की शिखर बैठक के पूर्ण अधिवेशन को संबोधित करने का अवसर पाने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं मॊदी जी|

आज से पहले देश के किसी भी प्रधानमंत्री को यह अवकाश नहीं मिला है। यह इस बात का साक्ष है की आज भारत दुनिया को अपना दम दिखा रहा है। मोदी जी ने कहा कि स्वच्छ और स्पष्ट नीतियों के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था फल-फूल रही है और दुनिया भर के उद्यमी निवेश का जोखिम उठाने लगे हैं। भारत बड़े आर्थिक अवसरों का देश और वैश्विक निवेश का आकर्षक गंतव्य बन गया है। उन्होंने कहा आज दुनिया भारत को एक ‘चमकता सितारा’ के रूप में देख रहें है।

मॊदी जी की नीती स्पष्ट है और वे हर बार विकास की राजनीती की ही बात करते हैं। उनका लक्ष और उनका उद्देश्य है देश का समग्र विकास। उनका सपना भारत को विश्व गुरु बनाना। जो वे बनाकर ही दम लेंगें।

Tags

Related Articles