अभिमतराजनीति

कर्नाटक के मंगलूरू में मंदिर के अध्यक्ष ने मस्जिद के विस्तार के लिए भूदान दिया, बिकाऊ मीडिया आपको कभी ये नहीं बताएगी।

देश में जब भी हिन्दू- मुस्लिम झगड़ा होता है तो देश के सारे दलाल पत्रकार, बिकाऊ मीडिया अपना केमरा लेकर वहां पहुंच जाती है और रंग बिरंगी कहानी बनाकर दिन भर उस पे चर्चा करती है। गलती चाहे किसी की भी हो अपराधी हिन्दु संगठनों को ही बनाया जाता है। चेनलों में पेनल बिठाकर चर्चा के आड़ में दंगे को और भड़काने का काम करती है। लेकिन जब बात हिन्दू- मुस्लिम एकता की आती है तो इन बिकाऊ पत्रकारॊं को लक्वा की बीमारी हो जाती है। उन के मुहँ में छाले पड़  जाते  है और हाथ पैर सुन्न हो जाते है!

कर्नाटक के मंगलूरू को कॊमु सूक्ष्म प्रदेश बताकर हिन्दुओं को बदनाम करने का प्रयत्न राजनेता, बुद्दीजीवी और दलाल पत्रकार करते आये हैं। जब की सत्य यही है कि ज़मीनी स्तर पर हिन्दुओं और मुस्लिमों में एकता है। इस का मिसाल आये दिन मंगलूरू के हिन्दु देते आये हैं। किसी भी समुदाय के व्यक्ति के निवास के लिए पूरे देश में ही मंगलूरू सबसे सुरक्षित जगह माना जाता है। मंगलूरू को बदनाम करने में सबसे बड़ा हाथ बिकाऊ मीडिया का ही है।

यहां हिन्दु-मुस्लिम-ईसाई सौहार्द से रहते हैं। हिन्दू त्योहारों में मुस्लिम और ईसाई भी शामिल होते हैं और उनके त्योहारों में हिन्दू भी। राजनेता अपने स्वार्थ के लिए भाड़े के लोगों से यहां दंगे करवाते हैं और देश की बिकाऊ मीडिया उसमें रंग भर के मंगलूरू को बदनाम करती है। हिन्दु न मंगलूरू में और ना देश के किसी भी कोने में और ना ही विश्व में बदनाम है। बल्कि सनातन धर्म हिन्दुओं को यही सिखाता है की सारा विश्व ही एक परिवार है।

इसी ध्येय को आगे बड़ाते हुए मंगलूर के मंदिर के एक अध्यक्ष ने मस्जिद के विस्तार के लिए भूमी दान दिया है। मंगलूरू के केय्यूर ग्राम के ओलेमुन्डॊवु के रहनेवाले मॊहन राय एलिय श्री विष्णुमूर्ति मंदिर के अध्यक्ष हैं। उन्होंने अपने संपत्ती में से 12 सेंट जगह बगल के मस्जिद के विस्तार कार्य के लिए दान में दे दिया है। अपनी जगह दान में देने के बाद उन्होंने कहा कि देश में हिन्दू-मुस्लिम एकता से बढ़कर कुछ नहीं है। मस्जिद के अधिकारियों ने भी मोहन जी को हृदय से आभार प्रकट किया है। मोहन जी बरसों से मस्जिद के सभी कार्यक्रमों उपस्थित रहते हैं।

मोहन जी ने मस्जिद को अपनी निजी भूमी दान में दी  और कहा ” मस्जिद के समिती को मस्जिद के विस्तार हेतू अतिरिक्त भूमि चाहिए थी । भले ही हम अलग धर्म के हैं किन्तु हमारे भगवान एक हैं। इसीलिए हमें सभी धर्मों का आदर करना होगा। हमें धर्म के नाम पर भेद भाव नहीं करना चाहिए। भगवान ने मुझे सब कुछ दिया है और उसका एक हिस्सा मैं दान में दे रहा हूँ”।

यही होती है हिन्दु सभ्यता, यही होती है हिन्दु सॊच। मॊहन राय जी अभिनंदन के पात्र है। हिन्दु हमेशा से ही सहिष्णु रहा है जिसका नाज़ायज फायदा अन्य लोगों ने उठाया है। हिन्दुओं ने सदियों से ही अपनी धर्म सहिश्णुता का साक्ष दिया है। लेकिन हिन्दुओं के साथ गद्दारी ही की गयी है। एक हिन्दु ने मस्जिद के लिए जगह दी जिससे बिकाऊ मीडिया को कॊई लगाव नहीं है। अगर किसी हिन्दु व्यक्ति ने मुसल्मान को ज़रा छू भी लिया होता तो सारा ‘सेक्यूलर ब्रिगॆड’ छाती कूटते हुए आ जाता है और हिन्दु संगठनों पर आरॊप लगाता। लेकिन जब कई मुसल्मान एक मासूम बालक को नरक यातनाएं देकर क्षत विक्षत कर मार डालता है तब यह ब्रिगेड गांधी जी के तीन बंदर बनजाते हैं। धिक्कार है ऐसे दॊगले सेक्यूलर ब्रिगॆड पर।

मॊहन जी ने अपनी जमीन मस्जिद को दान में देकर इस ब्रिगेड के मुहुँ पर तमाचा मारा है। ऐसी हिन्दु-मुस्लिम-ईसाइयों के सौहार्द पूर्ण घटनाओं के बारे में बिकाऊ मीडिया आपको नहीं बताएंगी क्यों की इससे उनकी टीआरपी नहीं बढ़ेगी। वह तो तब बढ़ेगी जब दंगे होगें जिसकी आग में ये बिकाऊ लोग अपनी रॊटियां सेक लेंते हैं। लानत है ऐसे बिकाऊ लोगों पर और अभिमान है मॊहन जी जैसे हिन्दुओं पर।

सनातन धर्म अमर रहे।

 

Tags

Related Articles