अभिमतराजनीति

आखिर क्यों जेरूसलेम के विषय मॆं भारत ने अमरीका के खिलाफ़ संयुक्त राष्ट्र में वॊट दिया?

 

पिछले 24 घंटॊ से हर जगह यही खबर है की भारत ने इसराइल के साथ धोखा किया। भारत ने इसराइल के पीठ पर छूरा खॊपा। भारत ने अमॆरिका से दुशमनी मोल ली। संयुक्त राष्ट्र में भारत ने अमरीका के निर्णय के विरॊध में वॊट क्या डाला, 24 घंटे के अंदर राजनीती और कूट्नीती के विश्लेषक उभर आये हैं। सब के मन में यह प्रश्न उठ रहा है कि आखिर भारत ने इसराइल के साथ ऐसा क्यों किया?

वास्तव में देखा जाए तो अंतरराष्ट्रीय कूट नीतियां आम मनुष्य के समझ से परे होते हैं। दुनिया का कोई भी देश एक दूसरे का सच्चा मित्र नहीं हो सकता। यहां सारे देश सब पहले अपना हित ही देखते हैं। सब को अपने देश की हित और अपनी राजनीतिक साख बचाने की ही कॊशिश होती है। इसी के चलते अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसराइल में स्थित अपने रायभार कार्यालय को जेरूसलेम में स्थानंतरित करने की बात कही।

जैसे ही ट्रंप ने जेरूसलेम को इसराइल की राजधानी बनाने की बात आगे रखी, दुनिया के तमाम मुस्लिम देश ट्रंप के इस निर्णय का विरॊध करने लगे। वास्तव में जेरूसलेम यहूदी, मुसलमान और ईसाईयों के लिए पूजनीय स्थल है। तीनों अपना हक जेरूसलेम में जमाना चाहते हैं। जेरूसलेम के लिए युद्द भी हो चुका है। ट्रंप जेरूसलेम को इसराइल की राजधानी बनाकर मुसल्मानों को यह संदेश देना चाहते थे की उनका जेरूसलेम में कोई अधिकार नहीं है।

ट्रंप के ऐसे करने की वजह भी है। वास्तव में ईवांजेलिकल क्रिश्चियन हमेशा से ही यहूदियों के पक्ष में रहे हैं। ट्रंप को चुनाव में भारी बहुमत इन्ही ईवांजेलिकल क्रिश्चियन समुदाय ने दिया है। अमरीका के 25% आबादी ईवांजेलिकल क्रिश्चियनों की है। ट्रंप अपने वॊट बैंक को खुश करने के साथ साथ दुनिया में अपना दब दबा भी कायम करना चाहते हैं। जेरूसलेम का मुद्दा इसराइल और पालेस्तीन के बीच का है। इसराइल अब अमरीका के कंधे पर बंदूक रख कर गॊली चला रहा है।

ट्रंप के निर्णय के वोरॊध में संयुक्त राष्ट्र ने तुरंत सत्र बुलाया और इस विषय को सर्वानुमत चुनाव के द्वारा सुलझाने का प्रयत्न किया।128 members voted on Thursday in favour of the resolution supporting the longstanding international consensus that the status of Jerusalem – which is claimed as a capital by both Israel and the Palestinians – can only be settled as an agreed final issue in a peace deal। तात्पर्य यही है की जेरूसलेम के मुद्दे को सौहार्द पूर्ण तरीके से इसराइल और पालेस्तीनी आपस में सुलझाले।

जिस तरह भारत कश्मीर के मुद्दे में किसी की दखल अंदाज़ी बरदाश्त नहीं कर सकता उसी तरह पालेस्तीन और इसराइल भी इस मुद्दे को आपस में सुलझा सकते हैं। भविष्य में कश्मीर का मुद्दा भी संयुक्त राष्ट्र में उठ सकता है। कश्मीर भारत और पाकिस्तान का आपसी मुद्दा है जिसे वे दोनों मिल्कर सुलझा सकते हैं इसी बात को संयुक्त राष्ट्र ने कहा है जिसका 128 देशों ने समर्थन किया है। तो क्या इसका मतलब है कि उन 128 देशों का इसराइल से नाता नहीं? क्या केवल भारत-इसराइल के संबंध अच्छे है और उनके बुरे? दुनिया के बड़े  बड़े 128 देशों ने ट्रंप के विरॊध में संयुक्त राष्ट्र के पक्ष में वॊट दिया है। भारत इन 128 देशों में से एक है। ट्रंप के निर्णय का समर्थन केवल 7 देशों ने किया है जो की पूरी तरह अमरीका पर निर्भर छॊटे छॊटे देश हैं।

अमरीका और इसराइल के वॊटॊं को मिलाकर कुल 9 देश ट्रंप का समर्थन कर रहे हैं। तो क्या भारत को मिलाकर 127 देश गलत थे? तो क्या कल हम कश्मीर के मुद्दे में तीसरे की धकल को मान लेगें? 35 देश ने वॊट डालने से  कदम पीछे किये लेकिन उन्होंने ट्रंप का समर्थन भी नहीं किया है। Thirty-five countries abstained, including five EU states, and other US allies including Australia, Canada, Colombia and Mexico. Ambassadors from several abstaining countries, including Mexico, used their time on the podium to criticise Trump’s unilateral move.

Another 21 delegations were absent from the vote, suggesting the Trump’s warning over funding cuts and Israel’s lobbying may have had some effect

दुनिया के अधिकतर देशों ने  सर्वानुमत से ट्रंप के निर्णय का विरॊध किया है। भारत का ट्रंप के विरॊध में निर्णय लेना इसराइल के विरॊध में निर्णय लेना है ऐसा माना जा रहा है। लेकिन पालेस्तीन से भी भारत के संबंध अच्छे हैं। साथ ही साथ ईरान और अन्य मुस्लिम देशों से भी भारत ने अच्छे संबंध बनाए हैं। वर्तमान के निर्णय भविष्य में आनेवाली दूरगामी परिणामों को सॊच कर ही लिया जाता है। भारत यह कभी नहीं चाहेगा कि भविष्य में कश्मीर का मुद्दा संयुक्त राष्ट्र के आंगन में जाये और सारे मुस्लिम देश पाकिस्तान के पक्ष में वोट दें।

भारत के लिए इसराइल -पालेस्तीन का मु्द्दा ठीक वैसा ही है जैसे उत्तर कोरिया और अमरीका का है। भारत के उत्तर कॊरिया से भी और अमरीका से भी अच्छे संबंध हैं। भारत के इसराइल से भी और पालेस्तीन से भी अच्छे संबंध है और भारत मानता है कि जेरूसलेम उनका आपसी मुद्दा है। भारत किसी से दुश्मनी मोल लेना नहीं चाहता। संयुक्त राष्ट्र में अमरीका के खिलाफ वॊट डालने के बावजूद अमरीका के रायभारी कार्यालय से भारत-अमरीका के दॊस्ती का वीडीयॊ कल शाम को जारी किया गया है(DNA-Zee News)। इसका मतलब है की अमरिका और भारत के संबंध में कॊई बदलाव नहीं आयेगा। रही बात भारत और इसराइल की तो अगले महीने नेतन्याहू भारत आ रहे हैं तब इस विषय पर अवश्य बात होगी और भारत अपना पक्ष निस्संदेह नेतन्याहू के समक्ष रखेगा।

भारत अब डरपॊक और गरीब देश नहीं रहा है। भारत के दुनिया भर के देशों से अब अच्छे संबंध हैं। भारत अपने लिए सही गलत चुनने में सक्षम है। भारत को किसे के सामने गिडगिडाने की आवश्यकता नहीं है। हाँ, भारत की आवश्यकता आज दुनिया के बड़े बड़े देशों को है। आज दुनिया के बड़े देश भारत से हाथ मिलाने को उत्सुक है। दुनिया के पटल पर भारत एक सशक्त राष्ट्र के तौर पर उभर कर आ रहा है। अनुमान है कि आनेवाले दिनों में भारत विश्व की तीसरी सबसे बड़ी आर्थिक शक्ति  के रूप में उभर कर आयेगा। तब इसराइल और पालेस्तीन जैसे छॊटे देश, अमरीका और रूस जैसे बड़े देश भी भारत को नज़र अंदाज़ नहीं कर पाएंगे। पूरे विश्व में भारत का दब दबा होगा तो भारत से लॊहा लेने के बारे में कॊई सपने में भी नहीं सॊचेगा।

जिस विषय में ज्यादा जानकारी ना हो उस विषय में टिप्पणी करना मूर्खता होगी। भारत का अमरीका के विरुद्द संयुक्त राष्ट्र में वॊट डालना सही निर्णय था या गलत यह तो आनेवाला वक्त ही बताएगा। लेकिन यह सच है की अब भारत अपने हितॊं की रक्षा करने में सक्षम है। हम जैसे आम लोगों को यह विदेशी कूट्नीतियां समझ में नहीं आयेगी। आनेवाला समय अवश्य बताएगा की भारत का निर्णय वास्तव में गलत था या सही। रही बात मॊदी जी के ऊपर आरॊपॊं की वे अपने भारत के वॊट बैंक को खुश करने के लिए इसराइल के विरुद्द गये तो इस बात में कोई दम नज़र नहीं आता। क्योंकि जो व्यक्ति पिछले तीन साल से बिना वॊट बैंक की चिंता किए एक के बाद एक कड़े निर्णय ले रहा हो उसे भारत के हितॊं की बली चढ़ाकर संयुक्त राष्ट्र में वॊट देने की आवश्यकता नहीं है। वे सपने में भी भारत का भला ही सॊचेंगे। शायद भारत दुनिया को यही बताना चाहता हो कि भारत स्वतंत्र देश है और अपना निर्णय खुद लेने में सक्षम है और किसी के धमकीयों से भारत नहीं डरता है।

 

Tags

Related Articles