अर्थव्यवस्था

राजस्थान को तय करना होगा उसे “विकास” चाहिए या “राजनीती”

राजस्थान में पिछले चार सालों में जितना काम हुआ है उतना पिछली सरकार ने पांच साल में भी नही किया|  वसुंधरा सरकार ने विकास की धारा को हर संभाग, हर जिले, हर पंचायत, हर गांव, हर ढाणी और हर व्यक्ति तक पहुंचाया है। वसुंधरा सरकार के अथक परिश्रम का ही प्रतिफल है कि अब राजस्थान बीमारू प्रदेश नहीं रहा और विकसित प्रदेशों की श्रेणी में आ गया है|

वसुंधरा सरकार द्वारा राज्य के विकास के लिए बहुत योजनायों जैसे की भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान,ग्राम राजस्थान, राजस्थान कौशल एंव आजीविका विकास निगम,अन्नपूर्णा भंडार योजना,न्याय आपके द्वार ,पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन कल्याणकारी पंचायत शिविर,राष्ट्रीय बाल स्वस्थ कार्यक्रम,आदर्श विधालय  की शुरुआत की गयी है जो आम जनता के लिए काफी लाभदायक साबित हो रही है| योजनाओं का निर्माण आमजन को ध्यान में रखकर किया गया है बच्चे के पैदा होने से लेकर वृद्धावस्था तक ध्यान केन्द्रित किया गया है|

वसुंधरा सरकार के अंतर्गत राज्य ने कई नही ऊँचाइयों को छूया है

  •  स्किल डेवलपमेंट में राज्य दुसरे स्थान पर है|
  •  खानों की ई-नीलामी में प्रथम स्थान पर है|
  •  सौर ऊर्जा के उत्पादन में प्रथम स्थान पर है|
  •  राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क में प्रथम स्थान पर है|
  •  स्वच्छ भारत अभियान में शौचालय निर्माण में प्रथम स्थान पर है|
  •  राशन दुकानों को अन्नपूर्णा भण्डार में विकसित करने में प्रथम स्थान पर है|
  •  बेस्ट हॉलिडे डेस्टिनेशन के रूप में एशिया में छठे स्थान पर है|
  •  पूरे विश्व में पर्यटकों द्वारा जोधपुर को एशिया में 10वां सबसे पंसदीदा पर्यटक स्थान वर्ष 2017 के लिए चुना गया था|   

अलग अलग योजनायों के अंतर्गत राजे सरकार की प्रगति 

सरकार आपके द्वार

3 लाख, 15 हजार आवेदन प्राप्त, 3 लाख, 14 हजार से अधिक का निस्तारण।

आपका जिला आपकी सरकार

सवाई माधोपुर, बाड़मेर, नागौर, झालावाड़, भीलवाड़ा, सिरोही, डूंगरपुर, दौसा में।

न्याय आपके द्वार

70 लाख से अधिक प्रकरणों का निस्तारण, 523 ग्राम पंचायतें राजस्व वादमुक्त।

भामाशाह योजना

बिना किसी मध्यस्थ के सरकारी योजनाओं का पैसा सीधे लाभार्थियों के खाते में, 1 करोड़ 32 लाख 20 हजार परिवारों व 4 करोड़ 71 लाख से अधिक व्यक्तियों का नामांकन। 13 करोड़ 40 लाख 50 हजार ट्रांसेक्शन  5 हजार 516 करोड़ रुपये से अधिक सीधे लाभार्थियों के खाते में।

4400 करोड़ रुपए के MOU

4400 करोड़ रुपए के MOU पर हस्ताक्षर हुए जिससे किसान खुशहाल एवं संमृद्ध होगा|

पं. दीनदयाल उपाध्याय जन कल्याण पंचायत शिविर

प्रत्येक पंचायत समिति की 2 ग्राम पंचायतों पर प्रत्येक शुक्रवार को।

पं. दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना

पं. दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना में गरीब परिवारों के युवाओं को चिन्हित करने के लिए विशेष ग्राम सभा का आयोजन|

चिकित्सा

295 PHCs को आदर्श PHC के रूप में विकसित करने की योजना।

8 नए मेडिकल कॉलेज

चूरू, डूंगरपुर, भीलवाड़ा, भरतपुर, बाड़मेर, पाली, अलवर और सीकर स्वीकृत।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना

6 लाख से अधिक इंडोर patients को करीब 300 करोड़ रुपये की चिकित्सा।

POS मशीन

बायोमेट्रिक सत्यापन के बाद 25 हजार उचित मूल्य की दुकानों पर खाद्यान्न वितरण।

5000 अन्नपूर्णा भण्डार

रूरल मॉल/गांवों में किफायती मूल्य पर ब्रांडेड सामग्री।

अन्नपूर्णा रसोई

5 रुपए में नाश्ता, 8 रुपए में भोजन। पहले चरण में उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़ सहित 12 जिलों में।

मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान

पहले चरण में 3 हजार 529 गांवों में 94 हजार जल संरक्षण कार्य पूर्ण, दूसरा चरण भी शुरू – 4200 गांव, 66 कस्बों में।

सड़क

सड़क विकास पर प्रतिवर्ष 4 हजार 348 करोड़ रुपये तथा तीन वर्षां में 12 हजार 508 करोड़ खर्च हुआ था ।

शहरी गौरव पथ

शहरों में भी गौरव पथ निर्माण करने का निश्चय। इसके लिए 179 नगरीय निकायों में 446 करोड़ रुपए से अधिक की स्वीकृति प्रदान की जा चुकी है।

ग्रामीण गौरव पथ

1 हजार 972 ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर, 1 हजार 720 किमी CC Road निर्माण पूर्ण, दूसरे चरण में 2 हजार 86 ग्राम पंचायतें शामिल।

 शिक्षा

9 हजार 895 ‘आदर्श विद्यालय’ विकसित करने की योजना, 1 हजार 340 विद्यालयों का काम पूरा, 13 लाख से अधिक बच्चों का नामांकन बड़ा।

बिजली

घरेलू बिजली 22 से 24 घंटे। किसानों को भी पर्याप्त बिजली। तीन वर्षां में 4 हजार 752 MW बिजली उत्पादन क्षमता में वृद्धि।

ग्राम

आजादी के 69 वर्षो में पहली बार किसानों के लिए इतने व्यापक स्तर पर आयोजन किया गया।

स्टार्ट अप पालिसी

युवाओं के स्वरोजगार के लिए।

डिजिटल राजस्थान

1 करोड़ 15 लाख से ज्यादा Rupay Debit Card जारी, 23 हजार से ज्यादा Banking Pay Points with Micro ATM बनाए, जिनमें से 15 हजार से ज्यादा ग्रामीण इलाकों में, 40 हजार से ज्यादा E-Mitra केन्द्र स्थापित, 70 विभागों की 270 से ज्यादा सेवाओं का Digital Payment, Micro ATM सहित POS मशीन वैट मुक्त।

रीसुर्जेंट राजस्थान  

3.38 लाख करोड़ रुपये के 470 MoU पर हस्ताक्षर – सौर ऊर्जा को छोड़कर कुल 1.45 लाख करोड़ रुपये के निवेश में से 1.08 लाख करोड़ रुपये का निवेश विभिन्न स्तरों पर क्रियान्विति की प्रक्रिया में।

राजस्थान सम्पर्क पोर्टल

अब तक 9 लाख प्रकरणों का निस्तारण।

 रोजगार

10 लाख से अधिक सरकारी और गैरसरकारी।

पेयजल

10 हजार गांव पेयजल से लाभान्वित।

आदर्श विद्यालय

प्रदेश में हर ग्राम पंचायत में आदर्श विद्यालय योजना के तहत आज 4 हजार 437 आदर्श विद्यालय विकसित हो चुके हैं। साथ ही अंग्रेजी माध्यम के विवेकानंद मॉडल स्कूल भी शुरू हो गए हैं।

  • प्रतिदिन 4 गांव सड़कों से जोडे़ जा रहे हैं।
  • प्रतिदिन 25 किमी सड़क निर्माण।
  • प्रतिदिन 17 किमी सड़क विकास।

मुख्यमंत्री राजश्री योजना

बच्चियों के जन्म से लेकर अच्छी शिक्षा देने तक की जिम्मेदारी।

2500 रूपए – बालिका के जन्म पर

2500 रूपए – प्रथम वर्षगांठ पर

4000 रूपए – राजकीय विद्यालय में कक्षा 1 में प्रवेश पर

5000 रूपए – कक्षा 6 में प्रवेश पर

11000 रूपए – कक्षा 10 में प्रवेश पर

25000 रूपए – कक्षा 12वीं पास करने पर कुल 50 हजार रुपये।

कुंभाराम कैनाल पर अब तक हुई राजनीति, आजादी के बाद पानी भाजपा सरकार द्वारा 

आजादी के बाद से कुंभाराम लिफ्ट कैनाल के नाम पर क्षेत्र में राजनीति होती रही। भाजपा सरकार ने  केवल 4 साल में यहां पानी पहुंचाया है, 172 करोड़ रूपए खर्च कर तारानगर से मलसीसर तक पाइपलाइन से पानी पहुंचाया और उसे शोधित कर झुन्झुनूं जिले के विभिन्न गांवों और कस्बों को दिया। अब क्षेत्र को प्रतिदिन 15 करोड़ 50 लाख लीटर पानी उपलब्ध होगा।

बाड़मेर के पचपदरा में रिफाइनरी राजस्थान में सबसे बड़ा निवेश है, जो प्रदेश का भविष्य संवारने जा रही है। करीब 43 हजार करोड़ रुपये की इस महत्वाकांक्षी परियोजना का कार्य शुभारम्भ प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 16 जनवरी को पचपदरा में करेंगे।

नितिन गडकरी द्वारा राजस्थान में हो रहे विकास पर विशेष

 

भामाशाह योजना ने राष्ट्रीय ई-शासन स्वर्ण पदक 2015-16, मेक इन इंडिया अवॉर्ड इंडो अमेरिकन चैंबर ऑफ कॉमर्स और ई-गवर्नेंस पहल की तीसरी डिजिटल इंडिया समिट -2017 जैसे प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त किये है|

बाल यौन अनुपात में सुधार की मान्यता में महिला और बाल विकास मंत्रालय ने 2017 में राजस्थान को नारी शक्ति पुरस्कार से भी सम्मानित किया है|

विकास का जो रथ 13 दिसम्बर, 2013 को शुरू किया था, वह आज तरक्की की राह पर तेजी से दौड़ रहा है।

बहुत से लोगों की वसुंधरा जी को लेकर राये है कि वह एक शाही परिवार से संबंधित है इसलिए वै अच्छे से काम नही करती,उन्हें गरीबों की फिकर नही है लेकिन वसुंधरा जी एक शिक्षित और अनुभवी नेता है।अटल जी की सरकार के दौरान मुख्यमंत्री राजे ने 16 केन्द्रीय मंत्रालयों को संभाला था। मुख्यमंत्री राजे बहुत मेहनती है, वै आईएएस अधिकारियों और कलेक्टरों और मंत्रियों के साथ बैठक आयोजित करते हैं जो देर रात तक 11.30 / 12.00 बजे तक चलते हैं। राजपूत समाज की भावनाओं का सम्मान करते हुए और रानी पद्मावती की महिमा को बरक़रार रखते हुए उन्होंने फिल्म ‘पद्मावत’ को राजस्थान में नहीं रिलीज करने का फैसला भी लिया है|

मंत्री पियूष गोयल ने भी बिजली क्षेत्र में पहल के लिए राजे की तारीफ की। “जब वसुंधरा राजे ने 2013 में राज्य का पदभार संभाला था, तो राज्य को बिजली क्षेत्र में 15,000 करोड़ रुपये का वार्षिक नुकसान हुआ था।” “महज तीन साल में, वह घाटा  5,200 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। मुझे यकीन है कि अगले साल तक, राज्य लाभ कमायेगा और इसे हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में एक इतिहास रचेगा|

वसुंधरा राजे जी के खिलाफ कांग्रेस द्वारा गंदी राजनीती की जा रही है|कांग्रेस विकास से भयभीत होकर विकास से भटकाने के लिए राजनीती के गंदे खेल खेल रही है और उसमे मुख्यमंत्री राजे को घसीट रही है|

वसुंधरा जी और भाजपा सरकार पर भरोसा करें, हम निश्चित रूप से घास के मूल स्तर से शीर्ष तक के बदलाव को देखेंगे।

Tags

Related Articles