अर्थव्यवस्थाराजनीति

क्या पियूष गोयल के विद्युत् क्रान्ति में नहीं दिखती जिग्नेश मेवानी को गरीबी से आज़ादी

“100 प्रतिशत विद्युतीकरण” शुरुआत से ही एक अल्पकालिक पहल नहीं बल्कि प्रगति के लिए लगातार चलने वाली दीर्घकालिक पहल है जिसके लिए मोदी सरकार लगातार पिछले तीन साल से हर संभव प्रयास कर रही है और काफी हद तक इसमें सफल भी हो चुकी है|

मोदी सरकार ने इस असम्भव कार्य को संभव करने के लिए बहुत से कदम उठाये है| मोदी सरकार द्वारा उठाये अहम कदम|

दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (DDUGJY)

दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना एक ऐसी योजना है जिसके तहत गाँवों का विद्युतीकरण किया गया है| अप्रैल 2015 तक 18, 452 गाँव ऐसे थे जहां बिजली नही थी जिसमे  से आज 16032 गांवों को विदुयतीकृत कर दिया गया है जो की तक़रीबन 87% है| अब केवल 1317 ऐसे गाँव बचे है जिनका   विद्युतीकरण किये जाना है जिसमे से 1000 तो अरुणांचल प्रदेश और 111 तो छत्तीसगढ़ से ही है जिसका कारण इलाके का कठिन भौगोलिक हैं। 1268 गांवों में कार्य प्रगति पर है इन गांवों का मई 2018 तक विद्युतीकरण कर दिया जाएगा। 5,97,464 जनगणना गांवों में से 5,96,147 गांवों (99.7 %) का विद्युतीकरण किया जा चूका है।

उज्ज्वल डिस्कॉम एश्योरेंस योजना (UDAY)

उज्ज्वल डिस्ककॉम एश्योरेंस योजना (यूडीएआई), बिजली वितरण कंपनियों के वित्तीय और परिचालनात्मक बदलाव के लिए सरकार द्वारा 20.11.2015 को शुरू की गयी थी| इस योजना का उद्देश्य लगभग 4.3 लाख करोड़ रुपये के कर्ज की विरासत का स्थायी समाधान प्रदान करना है और संभावित भविष्य के नुकसान न हो इस पर ध्यान रखना है। इस योजना में सभी क्षेत्रों में सुधार के उपाय भी शामिल हैं – उत्पादन, संचरण, वितरण, कोयला और ऊर्जा दक्षता। नागालैंड, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह, दादरा एवं नगर हवेली और दमन एवं दिउ ने 20 नवंबर 2017 को भारत सरकार के तहत यूडीए योजना के तहत समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इसके साथ ही आज तक यूडीए में 27 राज्यों और 4 संघ शासित प्रदेशों में शामिल हो गए हैं।

 

समेकित विद्युत विकास स्‍कीम(IPDS)

समेकित विद्युत विकास स्‍कीम-आईपीडीएस स्‍कीम के उद्देश्‍य शहरी क्षेत्र में गुणवत्ता और विश्वसनीय 24×7 बिजली आपूर्ति प्रदान करना है, शहरी क्षेत्रों में उप पारेषण और वितरण नेटवर्क को सशक्‍त बनाना  और शहरी क्षेत्रों में वितरण ट्रांसफार्मों/फीडरों/उपभोक्‍ताओं के लिए मीटर लगवाना है|अब तक इसके अंतर्गत निगरानी समिति द्वारा 3,616 शहरों को कवर करने के लिए 26,910 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। आईटी और तकनीकी हस्तक्षेप न केवल शहरी क्षेत्र में 24×7 बिजली की आपूर्ति को सुनिश्चित करेगा, लेकिन बिलिंग और संग्रहण दक्षता में भी सुधार करने में मदद मिलेगी, जिसके परिणामस्वरूप कुल तकनीकी और वाणिज्यिक (एटी एंड सी) के नुकसान में कमी आएगी।

अब तक, आर-एपीडीआरपी के तहत 1363 शहरों को “गो-लाइव” घोषित किया गया है, 52 शहरों में स्काडा नियंत्रण प्रणाली की स्थापना की गई है, 20 स्काडा शहरों को पूरा किया गया है और 21 डेटा केंद्रों में से 20 कार्यक्रम को पार्ट-ए के तहत पूरा किया गया है और  पार्ट-बी परियोजनाएं 970 शहरों में पूरी हो चुकी हैं। भारत में 45/57 डिस्क्मों (निजी सहित) में शॉर्ट कोड ‘1912’को ऑल इंडिया उपभोक्ता कनेक्ट के लिए अपनाया गया है|

सौभाग्य (प्रधान मंत्री सहज बिजली हर घर योजना)

सरकार ने प्रत्येक घर में बिजली उपलब्ध कराने के अपने सपने को साकार करने के लिए इस योजना का शुभारम्भ किया था| सौभाग्य योजना के तहत अब तक सरकार ने 18,05,43,905 घरों में से 9,50,879 घरों का विदुतिकरण कर दिया है और सरकार का 31 मार्च 2019 तक देश में सार्वभौमिक घरेलू विद्युतीकरण प्राप्त करने का लक्ष्य है।

जलविद्युत परियोजनाएं

हाइड्रो पावर सेक्टर में, 11.55 मेगावाट की कुल स्थापित क्षमता वाले 11 जलविद्युत परियोजनाएं वर्ष 2017-18 में चालू होने की संभावना है। इन परियोजनाओं में से, 465 मेगावाट की स्थापित क्षमता वाले 7 परियोजनाओं को 30.11.2017 तक पहले ही चालू कर दिया गया है और शेष क्षमता मार्च’18 तक चालू होने की संभावना है। वित्तीय वर्ष 2017-18 (जनवरी 2017 से नवंबर ‘2017) के लिए जल विद्युत उत्पादन 120.87 बू है।वर्ष 2017 में सीईए द्वारा 2880 मेगावाट की डिबग बहुउद्देशीय परियोजना की पुष्टि भी की गई है।60 मेगावाट नटवर मोरी एचईपी का निवेश अनुमोदन एसजेवीएनएल को भी दिया गया है।

हस्तांतरण

“राष्ट्रीय विद्युत योजना (ट्रांसमिशन)” पर तैयार प्रारूप ड्राफ्ट में 226 गीगावॉट की परियोजना की अधिकतम मांग को पूरा करने के लिए 2017-22 की योजना अवधि के लिए अंतर-क्षेत्रीय संचरण लिंक सहित पारेषण प्रणाली (पारेषण लाइन और संबद्ध सबस्टेशन) शामिल हैं|सीबीटीई को सुविधाजनक बनाने के लिए पड़ोसी देशों को विशेष रूप से आपूर्ति बिजली के लिए भारतीय उत्पादन केंद्रों को पड़ोसी देशों से जोड़ने के लिए स्वतंत्र ट्रांसमिशन सिस्टम बनाने की अनुमति के लिए सक्षम प्राधिकरण (सीए) के लिए आचरण व्यापार नियम (सीबीआर) जारी किया गया है। दूसरे शब्दों में, सरकार ने उन सुधारों को गति प्रदान कर दी है जो बिजली के संचरण को मजबूत करने और मजबूत करने के लिए आवश्यक होंगे|

उजाला और एसएलएनपी

ऊर्जा के संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए, राष्ट्रीय एलईडी कार्यक्रम जनवरी 2015 में शुरू किया गया था। इसमें प्रमुख योजनाएं शामिल हैं:

क) सभी के लिए सस्ती एलईडी द्वारा उन्नत ज्योति (उजाला)

ख) सड़क प्रकाश राष्ट्रीय कार्यक्रम (एसएलएनपी)

उजाला का लक्ष्य घरेलू उपभोक्ताओं को एलईडी बल्ब प्रदान करना है, जिसमें एलईडी बल्ब के साथ 77 करोड़ इन्द्रैसंस बल्बों को बदलने का लक्ष्य है। एसएलएनपी का उद्देश्य मार्च 201 9 तक स्मार्ट और ऊर्जा कुशल एलईडी स्ट्रीट लाइट्स के साथ 1.34 करोड़ पारंपरिक स्ट्रीट लाइटों की जगह बनाना है।

ईईएसएल ने एक सेवा मॉडल विकसित किया है ताकि नगर पालिकाओं को एलईड के साथ पारंपरिक रोशनी को बिना किसी अग्रिम लागत पर बदल दिया जा सके। ऊर्जा की बचत के मुताबिक शेष राशि नगरपालिकाओं के माध्यम से बरामद की जाती है। इसी तरह, घरेलू रोशनी के लिए, ईईएसएल सेवा मॉडल ने घरेलू घरों को एलईडी लाइट्स की खरीद के लिए 5 रुपये की सस्ती कीमत पर मदद की है,घरेलू उपभोक्ता 10 रुपये में एलईडी लाइट खरीद सकते हैं और बिजली बिल में किश्तों के माध्यम से शेष राशि का भुगतान कर सकते हैं।

5 जनवरी 2015 को शुरू होने के बाद से 18 दिसंबर 2017 तक राष्ट्रीय एलईडी कार्यक्रम के कार्यान्वयन की वर्तमान प्रगति निम्नानुसार है|

पैरामीटर

 

उजाला

 

SLNP

 

 

वितरित एलईडी बल्बों की संख्या / स्ट्रीट लाइट्स इंस्टॉल की संख्या

 

28.07 करोड़

 

41.79 लाख

 

प्रति वर्ष औसत ऊर्जा बचाई गई

 

36.45 अरब किलो वाट

 

 2.80 अरब किलो वाट
 

प्रति वर्ष जीएचजी उत्सर्जन सीओ 2 कटौती

 

29.53 मिलियन टी सीओ 2

 

1.93 मिलियन टी सीओ 2

 

झारखण्ड के एक गाँव उपमार्ग में लोग बिजली मिलने से बेहद खुश है और मोदी जी का धन्यवाद कर रहे है|

देश भर में 24 × 7 बिजली प्रदान करना एक बहुत महत्वपूर्ण उद्देश्य बन गया, मोदी सरकार ने न केवल बिजली उत्पादन में वृद्धि,संचरण और वितरण को मजबूत किया बल्कि मौजूदा बुनियादी ढांचे की ऊर्जा दक्षता में भी वृद्धि की और बिजली के हो रहे क्षय को भी काम किया|

सपना नही सचाई है,बिजली हमारे घर आई है

अच्छे दिनों की शुरुआत है, अँधेरे में भी जगमगाती रात है|

 

 

Tags

Related Articles