राजनीतिसैन्य सुरक्षा

भारतीय सेना ने एक बार फिर चीन की सेना को सरहद से खदेड़ दिया, भारत के सामने चीन तो चाय कम पानी ज्यादा है।

अरुणाचल में सड़क बनाने के काम पे रोक लगाने को चीन हुआ राज़ी।

 

डॊकलाम में मुहुं की खाने के बाद भी चीन अपनी हरकतों से बाज़ नही आया। उसने अरुणाचल प्रदेश में कब्ज़ा करने की अपनी गंदी चाल के तहत तूतिंग में सड़क बनाने का काम शुरू कर दिया था। चीन का सड़क निर्माण दल पिछले हफ्ते अरुणाचल प्रदेश के तूतिंग प्रांत में करीब एक किलोमीटर अंदर घुस आया था। चीन अरुणाचल प्रदेश को अपने देश का हिस्सा बताता है और बार बार घुसपैठ करने की कॊशिश करता है। भारत के कड़े आपत्ती जताने के बाद भी उसने अरुणाचल प्रदेश में सड़क बनाने का काम शुरु किया था।

स्थानीय निवासियों ने जब इस बात की खबर भारतीय सेना को पहुंचाई तो सेना तुरंत तूतिंग पहुंची। जैसे ही चीन के सड़क निर्माण दल के लोगों ने भारत के जवानों को देखा तो उनके पैरों में गड़गड़ाहट शुरू हुई और वे अपना औज़ार वहीं छोड़कर जान बचाकर भाग खड़े  हुए। अरुणाचल प्रदेश के स्थानीय लोगों के अनुसार चीनी दल में सैनिकों के साथ असैन्य लोग भी शामिल थे जो भारतीय सेना को देखते ही भाग खड़े हुए । इसीलिए तो हम कहते हैं कि चीन तो भारत के सामने चाय कम और पानी ज्यादा है।

स्थानीय निवासियों ने चीन की हरकतों के बारे में पहले पुलिस को खबर दी। पुलिस ने बिशिंग के पास मेडोग में तैनात आईटीबीपी को चीन की हरकतों की सूचना दे दी। दोनों पक्षों में कहासुनी हुई लेकिन चीनियों ने मानने से इनकार कर दिया। तब भारतीय सेना को वहां भेजा गया। जैसे ही सेना वहां पहुंची तो घुसपैठिये सड़क  निर्माण के अपने औज़ार भी छोड़कर भाग गये। भारतीय सेना अभी भी वहां तैनात है।

भारत अब सक्षम बन चुका है। भारत की सेना अब पहले से कई ज्यादा गुना ताकतवर हो चुकी है। भारत के पास आज अत्याधुनिक हथियार है और एक देश प्रेमी केंन्द्र सरकार है। अब वो दिन बीत गये की चीन या पाकिस्तान हम को आँखे दिखायेगा और हम भीगी बिल्ली बनकर मियांव करते बैठेंगे। यह नेहरू की कांग्रेस सरकार नहीं मोदी जी की भाजपा सरकार है जो दुश्मन पर सिंह के जैसे गरजती है। अब सेना को खुली छूट है कि वे दुश्मन से ‘अपने ही तरीके’ से निपटे। अब सेना को दिल्ली का मुहुं ताकते हुए ‘हुकुम’ की प्रतीक्षा नहीं करनी पड़ती है। ज़रूरत पड़ी तो दुश्मन देश के अंदर घुसकर दुश्मनों के सीने में गॊली दाग देगी हमारी भारतीय सेना।

भारतीय सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा है की अब डोकलाम में भी चीनी सैन्य दस्ते की संख्या में भारी कमी आई है और अरुणाचल प्रदेश के मुद्दे पर भी अपना वक्तव्य देते हुए उन्होंने कहा की दोनों पक्षों में बात चीत के द्वारा इस मुद्दे को सुलझा लिया गया है। अब चीन ने तूतिंग में अपने सड़क बनाने के निर्णय पर रोक लगा दी है। इस कारण से भारत ने उनके सभी औज़ार वापस लौटादिये हैं जो भारतीय सेना ने ज़ब्त कर लिए थे । चीन हमेशा से अरुणाचल प्रदेश का दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा होने का दावा करता रहा है। भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के 3 हजार 488 किलोमीटर पर सीमा विवाद चल रहा है।

चीन ने पहले डॊकलाम में विवाद किया और अब अरुणाचल प्रदेश में भी घुसपैठ करने की कॊशिश की। लेकिन दोनों जगह पर उसने मुहुं की खाई। चीन और पाकिस्तान कभी नहीं सुधरेंगे। दोनों के दोनों लातों के भूत हैं और बातों से नहीं मानेंगे। अब दिल्ली में ‘जी मैडम  जी’ की रॊबॊट सरकार नहीं है अब तो यहाँ देश प्रेमी मोदी सरकार है। इसलिये हम भी सीना तान के कहते हैं कि चीन-पाकिस्तान गया तेल लेने।

भारतीय सेना की जय… जय जवान…

Tags

Related Articles