राजनीति

राहुल गाँधी जी ये है वो विकास जिसके दम पर भाजपा लड़ रही है चुनाव

राहुल गांधी कह रहे हैं -गुजरात ने विकास नहीं देखा है और बीजेपी से पूछ रहे है की वे विकास पर चुनाव क्यों नहीं लड़ रहे हैं?

आइये इस लेख से राहुल गाँधी को इस का उत्तर देते है

2001-2013 के दौरान मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में गुजरात ने सकल घरेलू उत्पाद(GDP) में 10% और अधिक की बड़ोतरी की|गुजरात का सकल घरेलू उत्पाद(GDP)  2001-2  में 123,573 करोड़ था जो 2013-14 में बड़कर 765,638 हो गया |

 

2010-14 के बीच गुजरात गुजरात का सकल घरेलू उत्पाद (GDP)  पुरे भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) से भी ज्यादा रहा |

गुजरात का शेयर भारत के निर्यात में 21.2% है

गुजरात का भारतीय अर्थव्यवस्था में एक महत्तवपूरण योगदान है |गुजरात के अलग अलग शेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था में एक अच्छा कॉन्ट्रिब्यूशन दे रहे है|

1999-2000 में गुजरात पांचवां सबसे समृद्ध राज्य था जो अब तीसरा सबसे समृद्ध राज्य बनगया है।

गुजरात की अर्थव्यवस्था का 37% एमएसएमआई (MSME) है और बेरोजगारी दर भी सबसे कम है| खुद कांग्रेस द्वारा गुजरात को सर्वश्रेष्ठ रोजगार जेनरेटर के लिए भी सम्मानित किया गया है।

 

गुजरात में शिशु मृत्यु दर 2001 में 60/1000 थी, जो अब 33/1000 हो गई है।

जल और बर्बर भूमि के बावजूद भी गुजरात ने कृषि विकास में 11% दर को छुआ है| कृषि के लिए पानी उपलब्ध कराने के लिए 1 लाख से अधिक चेक डैम बनाए गए।

भारत की राजधानी में रात 10 बजे तक दुकानों को बंद कर दिया जाता है जब की गुजरात की कानून और व्यवस्था मध्य रात्रि तक दुकानों को खोलने की अनुमति देती है।

2001-02 में प्राथमिक संस्थाओं की संख्या मात्र  37,501 थी जो  2010-11  में बड़कर 40,273 होगयी और आज भी वृद्धि के और अग्रसर है|

सभी स्थानों पर 24×7 बिजली और कृषि सिंचाई कार्य के लिए 8-10 घंटे अतिरिक्त बिजली भी प्रदान की जाती है ।

सड़कें पूरी तरह से साफ और समतल हैं, यहां तक की गांवों में भी और उनका उचित रखरखाव किया जाता है|

गुजरात के चिखली गाँव में सड़क आदर्श ग्राम योजना के तहत  उसे एक आदर्श गाँव बनाया गया

गुजरात स्वच्छ राज्यों में से एक है और पर्यटन के लिए उच्च गुणवत्ता वाले इन्फ्रास्ट्रक्चर के साथ है। हवाई अड्डे, बंदरगाहों, अंतर्देशीय जलमार्ग सभी वहां हैं|

कांग्रेस के शाशन के दौरान साबरमती रिवर फ्रंट की जो हालत थी उससे कोई भी अंजान नही

मोदी जी के शाशन में साबरमती रिवर फ्रंट

 

2016 के शुरुआत में दुनिया की सबसे पहली सोलर पंप इरिगेटर्स कोआपरेटिव एंटरप्राइज ने गुजरात के खेड़ा ज़िलें के धुन्दी गांव में काम करना शुरू किया। गुजरात की राजधानी अहमदाबाद के बाहर स्थित “द सोलर पंप इरीगेटर्स कोआपरेटिव एंटरप्राइज (SPICE) ना केवल सोलर ऊर्जा का उपयोग अपने 6 सिंचाई पम्पो को चलाने में करता है, बल्कि जो सरप्लस सौर ऊर्जा है उसे इकट्ठी कर लोकल यूटिलिटी “मध्य गुजरात विद्युत कंपनी(MGVCL) को 25 साल के पावर परचेस अग्रीमेंट के तहत बेचता भी है। 4.63 रूपये प्रति यूनिट सोलर ऊर्जा तथा ग्रीन ऊर्जा के बोनस का रूपये 1.25 प्रति यूनिट और जल संरक्षण के बोनस का 1.25 रूपये प्रति यूनिट से मिला कर करीब करीब रूपये 7.13 प्रति यूनिट की आय होती है। मई 2016 और 2017 के अप्रैल के अंतिम हफ्ते के बीच SPICE ने बिजली बेचकर रूपये 340000 से ज्यादा की कमाई की है।

 

गुजरात महिलाओं के लिए बिलकुल सुरक्षित है| एनसीआरबी के मुताबिक गुजरात में महिलाओं के खिलाफ अपराध दर राष्ट्रीय ओसत दर से भी कम है| अहमदाबाद को सबसे सुरक्षित शहरों में से एक माना जाता है|इंडिया टुडे द्वारा किए हुए एक सर्वेक्षण के अनुसार अहमदाबाद में महिलाऐं कहीं अकेले आने जाने में और आधी रात में भी अपने आप को सुरक्षित महसूस करती है|उन्हें किसी तरह का कोई भय या डर नही है| गुजरात विकास को दर्शाने वाला आदर्श राज्य है और पूरी दुनिया इसके बारे में जानती है। गुजरात में शराब, सिगरेट, गुटका कुछ भी नहीं चलता और महिलाओं  यहाँ पूरी तरह से सुरक्षित है। वै आधी रात में भी अकेली घूम सकती है|महिलाओं को विशवास है की मोदी जी की वजह से उनका गुजरात बहुत ही सुरक्षित है|

मुंबई-अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन| ये देश में सबसे अहम रेल प्रोजेक्ट है. इससे रेलवे को फायदा होगा, तकनीशियन, निर्माताओं को लाभ मिलेगा और एक तरह से पूरा रेलवे नेटवर्क लाभान्वित होगा.

सौराष्ट्र और दक्षिणी गुजरात में गोगा दहेज़ रोल-ऑन-रोल-ऑफ फेरी सर्विस|इस रोल-ऑन-रोल-ऑफ फेरी सर्विस से  सौराष्ट्र और दक्षिणी गुजरात के लोगों के  बड़ी राहत मिली है . इन दो बंदरगाहों के बीच चलने वाली ये फेरी 100 वाहन (कार, बसों और ट्रकों) और 250 यात्रियों को ले जाने में सक्षम है. सौराष्ट्र और दक्ष‍िण गुजरात के बीच सड़क से दूरी तय करने में तकरीबन 10 घंटे का समय लगता है.सौराष्ट्र के घोघा और दक्षिण गुजरात में दहेज के बीच का रास्ता 360 किलोमीटर का है जो अब फेरी सर्विस शुरू होने के बाद 31 किलोमीटर रह गया है|

गुजरात में दूसरे और अंतिम चरण में प्रचार के आखिरी दिन पीएम मोदी देश में पहली बार साबरमती रिवर से सी-प्लेन में सवार होकर धरोई डैम पहुंचे जहां से रोड शो करते हुए वै अम्बाजी मंदिर दर्शन करने पहुंचे ।सी-प्लेन की इस नई तकनीक को मोदी जी ने गुजरात के  समक्ष रखा|

 

गुजरात ऐसा राज्य है जिसने वास्तव में कांग्रेस और कम्युनिस्ट को दर्शाया है की  गुजरात ही विकास है और विकास ही गुजरात है|

 

Tags

Related Articles