अभिमतराजनीति

जिनके ऊपर अपने ही पार्टी कार्यकर्ता के लड़की से गैंग रेप/अपहरण और एक महिला के अनैतिक तस्करी का आरॊप हो, आज महिला सुरक्षा की बात करते हैं!

राहुल आज जो महिला सुरक्षा के बारे में बात करते हैं अच्छी बात है। लेकिन शायद वे भूल गये हैं की उन्ही के ऊपर एक लड़की से गैंग रेप करने का अरॊप लगा था। 2006 में राहुल और उनके दोस्तों के ऊपर अपने ही पार्टी के कार्यकर्ता के बेटी से बलात्कार और अपहरण का मामला दर्ज हुआ था। राहुल और उनकी पलटन के ऊपर FIR भी हुआ था। देश के किसी भी मुख्य धारा के समाचार पत्र या चानल में यह न्यूस बताया या दिखाया नहीं गया था। क्यों? इसका जवाब आप खुद ही जानते हैं।

अगर इस बात में सच्चाई नहीं भी थी तब भी मीडीया का यह कर्तव्य था की वह इस न्यूज़ को लोगों तक पहुँचाए। लेकिन ऐसा नहीं हुआ इस खबर को प्रसारित नहीं किया गया या फिर कहिए की दबाया गया?! सिर्फ़ इतना ही नहीं आज तक उस लड़की और उस के परिवार के बारे में किसी को पता नहीं चला है। यहाँ तक की जिस रिपॊर्टर और कैमरामैन ने इस घटना पर प्रकाश डाला था वे भी लापता है। घटना कुछ इस प्रकार है:

2006 में जब राहुल अपना चुनाव का प्रचार और प्रसार अमेठी में कर रहे थे, उसी दौरान वे अमेठी के एक गेस्ट हाऊस में रुके हुए थे जहाँ पर वे अपने सात दोस्तों (जिनमें से दो लॊग इटली के और दॊ ब्रिटन के थे) के साथ मदिरा पार्टी में लुप्त थे। कथित लड़की राहुल की बहुत बड़ी समर्थक थी और अपने आदर्श राहुल से  मिलने गयी तो राहुल और उनके दोस्तॊं ने वाईन की पेश कश की।लड़की ने वाईन पीने से मना करदिया। लेकिन नशे में चूर लड़कों ने लड़की से बदसलूकी की और उसका लैंगिक शॊषण किया, एक के बाद एक ने उसका बलात्कार किया।

 

लड़की जैसे तैसे करके राहुल और उनके दोस्तों के चंगुल से बाहर निकलती है और गेस्ट हाऊस के हर दरवाज़े पर मदद की गुहार लगाती है। लेकिन कॊई उसकी मदद नहीं करता। बाद में वह अपनी माँ के साथ पुलिस स्टेशन जाती है लेकिन पुलिस FIR दर्ज करने से मना करती है। काँग्रेस के गुंडॊं को यह आदेश दिया गया था की माँ, बेटी और बाप को देखते ही मार दिया जाए। बाप, बॆटी और माँ तीनॊं किसी तरह से अपनी जान बचाकर वहाँ से भाग गये।

कुछ समय बाद गैंग रेप पीड़िता लड़की और उसकी माँ न्याय मांगने के लिए मानावाधिकार आयॊग गये लेकिन वहाँ से भी उन्हे खाली हाथ लौटना पड़ा । माँ-बेटी सॊनिया गांधी से भी मिले और देश के राष्ट्रपती से भी मिलने की कॊशिश की लेकिन हर जगह से उन्हें मायूसी ही मिली। उस लड़की को कभी न्याय नहीं मिला। दस साल से लड़की और उसका पूरा परिवार लापता हैं और जिस वीडीयॊग्राफर द्रुपद और कैमरामैन जिन्होंने गैंग रेप पीड़ित लड़की का बयान रिकोर्ड किया था वे भी लापता हैं।

मध्य प्रदेश के MLA किशॊर सम्रिते ने राहुल के खिलाफ़ शिकायत दर्ज करवाया था जिसे उच्च न्यायालय ने यह कहते हुए खारिज करदिया की वह एक उच्च पद पर नियुक्त व्यक्ति के प्रतिष्ठा पर आरॊप लगा रहें हैं और उनकी छवी को खतरे में डाल रहे हैं। यह तो एक घटना है जिसे थोड़ी  बहुत रॊशनी मिली थी लेकिन न जाने ऐसी कितनी सारी घटनाएं होंगी जो कभी बाहर ही नहीं आई हो। हालांकि इस रेप कांड मामाले में मान्य सर्वोच्च न्यायालय ने राहुल को निर्दॊष करार दिया है लेकिन बिना आग के धुआं भी नहीं उड़ता ।

इस आरोप के साथ साथ राहुल के ऊपर अपने एक विदेशी महिला दॊस्त के साथ केरला में एक साथ रहने के कारण अनैतिकत तस्करी का केस भी दर्ज हुआ था। अलापुज़्ज़ा के एक निव्रुत्त प्राध्यापक जॊन.एम. इट्टी ने राहुल और उनकी विदेशी दोस्त के कुमारक्कोम में तीन दिन के वास्तव्य को लेकर कोट्टायम सुपरिंडेंट एस.गॊपीनात से लिखित रूप से शिकायत की थी।

हम यह दावा नहीं करते की यह आरॊप सच है लेकिन बात यह आती है कि जिसके ऊपर एक लड़की से गैंग रेप, अपकरण और दूसरी महिला से अनैतिक तस्करी के केस हुए हो वह महिला सुरक्षा के बारे में बात करने की नैतिकता रखता है या नहीं? जैसे की देश में हमेशा से ही होता आया है की पैसे के दम पर अपराधी बच जाते हैं और आम जनता को कभी न्याय नहीं मिलता। राहुल बड़े पद पर बैठे व्यक्ति हैं इस कारण उन पर कॊई भी उँगली नहीं उठा सकता है। लेकिन मॊदी जी के चरित्र पर उठाया जा सकता है। उन्हें स्नूप गेट जैसे झूठे केस में फँसाया जा सकता है यही है हमारे देश में बॊलने की आज़ादी। सच बॊलनेवाले को जेल भेजा जाता है और निर्दॊष व्यक्तियों को अपराधी करार दिया जाता है।


Source: https://ramanan50.wordpress.com/2014/02/13/rahul-gandhi-gang-rape-case/


Shaanyora

Tags

Related Articles