राजनीति

गुजरात की महिलाओं की और से राहुल गाँधी के लिए करारा जवाब,राहुल की यहाँ कोई जरूरत नही है

राहुल गाँधी चाहे जितनी भी रणनीतियां अपनाले पर फिर भी वै गुजरात में सत्ता पाने में कामयाब नही होंगे क्यूंकि गुजरात के अपने शाशन के दोरान नरेंद्र मोदी जी ने गुजरात के विकास पुरुष के रूप में अपनी छवि लोगों के दिल में बना ली है और मोदीजी को टक्कर देना आसान नही है| अगर राहुल सोचते है की वै अपने बेतुके प्रश्नों से लोगों के मन में कोई शंका पैदा करने में कामयाब होंगे तो ये उनकी सबसे बड़ी गलती है|

मोदी जी के पास तो इतना वक़्त नही की वै राहुल के इन बेतुके प्रश्नों पर ध्यान भी दे| पर ये देश जरुर राहुल गाँधी को जवाब देने के लिए अपनी कमर कस चूका है|और ऐसा ही एक जवाब राहुल गाँधी को उनके महिलाओं की सुरक्षा को लेकर किये गये प्रशन पर गुजरात की महिलाओं ने दिया है की मोदी जी की वजह से उनका गुजरात बिलकुल सुरक्षित है और राहुल गाँधी की यहाँ कोई जरूरत नही है|

गुजरात महिलाओं के लिए बिलकुल सुरक्षित है| एनसीआरबी के मुताबिक गुजरात में महिलाओं के खिलाफ अपराध दर राष्ट्रीय ओसत दर से भी कम है| अहमदाबाद को सबसे सुरक्षित शहरों में से एक माना जाता है|इंडिया टुडे द्वारा किए हुए एक सर्वेक्षण के अनुसार अहमदाबाद में महिलाऐं कहीं अकेले आने जाने में और आधी रात में भी अपने आप को सुरक्षित महसूस करती है|उन्हें किसी तरह का कोई भय या डर नही है| गुजरात विकास को दर्शाने वाला आदर्श राज्य है और पूरी दुनिया इसके बारे में जानती है। गुजरात में शराब, सिगरेट, गुटका कुछ भी नहीं चलता और महिलाओं  यहाँ पूरी तरह से सुरक्षित है। वै आधी रात में भी अकेली घूम सकती है|महिलाओं को विशवास है की मोदी जी की वजह से उनका गुजरात बहुत ही सुरक्षित है|

गुजरात में कोई बार या शराब की दुकान नहीं है यह पर्यावरण को अच्छा बनाता है।लोग इस मुद्दे पर बहुत संवेदनशील हैं।पुलिस नियंत्रण सरकार द्वारा अच्छा है वे इस मुद्दे पर भी सख्ती से काम करते हैं।गुजरात में कम अपराध हैं ।गुजरात में भाईगिरी जैसा कुछ भी नहीं है।

गुजरात में लड़कीयाँ क्यों सुरक्षित हैं और गुजरात देश भर में सबसे सुरक्षित राज्य क्यों है।इसके दो मुख्य कारण हैं: सामाजिक और सांस्कृतिक।सबसे पहले हम सामाजिक कारण के बारे में बात करते है। किसी भी राज्य के कानून की सुरक्षा और कार्यान्वयन  को महिला की सुरक्षा द्वारा मापा जाता है।गुजराती शांतिपूर्ण और पारिवारिक लोग हैं।

गुजराती समाज ऐसा है कि वो लड़कीयों को अपने सपने जीने की आज़ादी देता हैं और दूसरी तरफ लड़कों का पालन-पोषण ऐसा किया जाता है कि हर लड़की एक परिवार का सम्मान हैं। इसलिए गुजराती किसी के सम्मान को ठेस नहीं पहुंचाते। गुजराती महिलाओं के खिलाफ ऐसे अपराधों को बर्दाश्त नहीं करते। अगर कोई व्यक्ति इस तरह के कपटपूर्ण अपराध करता है तो गुजराती उन्हें अपने समाज में स्वीकार नहीं करते हैं। यह महिलाओं के खिलाफ अपराध करने के लिए किसी भी पुरुष या लड़के को रोकता है।

गुजरात के शहरों और गांवों में लगातार पुलिस गश्त है। ऐसे मामलों में यहां कानून और व्यवस्था भी बनाए रखी गई है। गुजरात  सांस्कृतिक विरासत में , देवताओं की प्रशंसा करते हैं, जो जन्म से  महिलाओं के प्रति सम्मान करते हैं। नवरात्रि के समय गुजरात में ,  लड़कियां  रात 2 बजे से 3 बजे, रात भर बहार घुमती रहती  हैं तो सामान्य दिनों में आप सोच सकते हैं कि वै आज़ादी  से रात में चारों ओर घूम-फिर सकती हैं।गुजराती “नारी तू नारायणी” (Women is a Goddess) में  विशवास रखते  है।औरत को वहाँ देवी का रूप माना जाता है और औरत वहाँ  पूरी तरह से महफूज़ है |

रात में रह रही महिलाओं को तो गुजरात उनके लिए असुरक्षित नही लगता, राहुल गाँधी को ही ऐसे सपने आते है और वो ऐसे बेतुके सवाल पूछते रहते है |राहुल के लिए अच्छा होगा की वो इस बात को समझले की गुजरात में उनकी दाल नही गलने वाली और अपनी हार को कबूल करके शांति से बैठ जायें मोदीजी को देश का विकास करने दे |इसी में उनकी खुद की और देश की भलाई है |वैसे भी अगर हार्दिक पटेल जैसे लोग कहीं आगये तो जरुर गुजरात महिलाओं के लिए असुरक्षित हो जायेगा |

Tags

Related Articles